Monday, February 27, 2012

सेतु

यह जो रेत पर पड़ी शिलाएं हैं -
यह वह सेतु है जो तुम तलक पहुँचता था..
जिन पे पाँव टिक न पाते थे कभी...
पंख बन तुमसे जा मिलाता था !
तुमने कई बार उसको छूकर ही -
मन की गहराइयों को नापा था
तुमने भी भरके रेत गड्ढों में-
बीच की हर कमी को पाटा था...!
आज फिर क्या हुआ अचानक जो-
बीच की रेत यूहीं ढहने  लगी-
टूटकर वह शिलाएं चुपकेसे
अपने अपने रास्तों पे बहने लगीं ?
अब तो जब भी पलटके देखती हूँ तो
पाती हूँ उनको इतना टूटा सा
नेस्तेनाबूत करके जैसे कोई -
अपनी बेचारगी पे रोता है.....

16 comments:

  1. बहुत खूब लिखा है

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर..
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है !
    सबसे पहले दक्ष को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें.!!
    Active Life Blog

    ReplyDelete
  3. क्या ख्यालों की बुरादें मजबूत नहीं होतीं ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. लेकिन यहाँ बात भावनओंकी और पूर्ण समर्पण की है ....अगर उसमें किसी की भी तरफसे ज़रा सी भी कसर रह जाती है तो सब कुछ बिखर जाता है ...!!!

      Delete
  4. हम्म....
    सोच में डाल दिया...
    अच्छे भाव...
    सादर.

    ReplyDelete
  5. सुंदर रचना.अच्छे भाव,
    सादर....

    ReplyDelete
  6. रचना का शीर्षक पूरी रचना पर छाया हुआ है.....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. टूटकर वह शिलाएं चुपकेसे
    अपने अपने रास्तों पे बहने लगीं ?
    अब तो जब भी पलटके देखती हूँ तो
    पाती हूँ उनको इतना टूटा सा
    नेस्तेनाबूत करके जैसे कोई -
    अपनी बेचारगी पे रोता है.....

    सुंदर भाव की बहुत अच्छी रचना....
    समर्थक बन गया हूँ आप भी बने मुझे खुशी होगी,...

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    ReplyDelete
  8. तुमने भी भरके रेत गड्ढों में-
    बीच की हर कमी को पाटा था...!

    रेत के साथ सीमेंट की ज़रूरत थी ... बहुत खूबसूरती से उकेरी हैं भावनाएं

    ReplyDelete
  9. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 01-03 -2012 को यहाँ भी है

    ..शहीद कब वतन से आदाब मांगता है .. नयी पुरानी हलचल में .

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ ....गहरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. bahut hi pyaari rachna hai ,FB par bhi saanjha kar rhi hun saras ji

    ReplyDelete
  12. रेत पर बने सेतु का ढहना भले ही उसकी नियति हो ,मन को सोच से भर देता है .

    ReplyDelete
  13. तुमने भी भरके रेत गड्ढों में-
    बीच की हर कमी को पाटा था...!
    SUNDAR RACHANA MAN KO JHANKRIT KARANEWALI .

    ReplyDelete