Thursday, January 3, 2013

क्षणिकाएं



    (१)
एक अनजाना चेहरा -
एक अज्ञात नाम -
लेकिन कमाल का जज़्बा-
फिर यह शिकायत क्यूं ,
की इंसानियत मर चुकी है ......!

   (२)

मौन से बढ़िया साथी आज तक नहीं मिला
वह न रोकता है ...न टोकता है ..
बस मेरे मनकी सुनता है ....
न बहस करता है  ...न उलझता है ...
न अपनी बात मनवाने की जिद्द करता है ...
मौन सिर्फ साथ देता है ...जब तक चाहो ...
जहाँ तक चाहो ....!!!!

    (३)

शोर सुना है अक्सर -
-सर पीटती लहरों का
-अस्फुट , अर्थहीन नारों का
-विस्फोटों के खौफ का
- नूरा कुश्ती करते  विचारों का ....
पर जो देहलाता है सबसे ज्यादा !
वह है शोर-
सन्नाटे का ...!!!



34 comments:

  1. और सन्नाटे का शोर जाने कितना कुछ कहता है
    बन जाता है सहयात्री, हमदम
    खोलता है नए द्वार

    ReplyDelete
  2. आपकी टिप्पणी का रहता है सदा इंतज़ार .....बहुत बहुत आभार ...:)

    ReplyDelete
  3. और मौत का सन्नाटा????
    ओह! दिल दहलाता है..
    हाँ तब मौन मन को बहलाता है...

    बहुत अच्छी क्षणिकाएँ..
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. शोर सुना है अक्सर -
    -सर पीटती लहरों का
    -अस्फुट , अर्थहीन नारों का
    -विस्फोटों के खौफ का
    - नूरा कुश्ती करते विचारों का ....
    पर जो देहलाता है सबसे ज्यादा !
    वह है शोर-
    सन्नाटे का ..

    तीनों क्षणिकाएं अपने आप में पूर्ण अर्थों को बयां करती ..एक से एक खुबसूरत ..अद्भुत भावयुक्त .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार रमाकांत जी

      Delete
  5. शानदार , जानदार , दमदार ..तीनों :)

    ReplyDelete
  6. पर जो दहलाता है सबसे ज्यादा !
    वह है शोर-
    सन्नाटे का ...!!!

    गागर में सागर भरती सी क्षणिकाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. खुश कर दिया रश्मि तुमने ...:)

      Delete
  7. वाह ! अच्छा लिखा है । कम में अधिक या लघु में दीर्घ भाव ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत आभार अमितजी

      Delete
  8. एक से एक खुबसूरत भावों को लिए तीनो क्षणिकाए..बधाई सरस जी,,,

    recent post: किस्मत हिन्दुस्तान की,

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत आभार

      Delete
  9. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत आभार

      Delete
  10. तीनों ही शानदार.........पहला वाला सबसे अच्छा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना पसंद करने के लिए बहुत बहुत आभार इमरान जी

      Delete
  11. तीनो ही बेहतरीन क्षणिकाएँ.. ...पर तीसरी बेहतरीन लगी

    नयी उम्मीदों के साथ नववर्ष की शुभकामनाएँ !!

    @ संजय भास्कर

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत आभार संजयजी ...नव वर्ष की अशेष शुभकामनाएं आपको भी ...:)

      Delete
  12. खामोशियां बहुत कुछ बांटती हैं
    सांझा करने में जाने इन्‍हें कैसा सुकून मिलता है
    ... हर क्षणिका अनुपम भाव संजोये नि:शब्‍द करती है
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना को सराहने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद सदाजी

      Delete
  13. सरस जी...तीनों क्षणिकाएँ बहुत सुन्दर हैं ... विशेषकर दूसरी - मौन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका ब्लॉग पर आना अच्छा लगा ...आभार शालिनीजी ...:)

      Delete
  14. सन्नाटे का शोर भी मौन है, किससे शिकायत करे
    की इंसानियत मर चुकी है ...
    गहन भाव लिए हुए हैं तीनो क्षणिकाएं... आभार

    ReplyDelete
  15. प्रोत्साहन के लिए आभार संध्याजी...:)

    ReplyDelete
  16. सच है ... इस सन्नाटे का शोर कभी कभी बहरा कर देता है ...
    सभी क्षणिकाएं प्रभावी ...

    ReplyDelete
  17. मौन सिर्फ साथ देता है ...जब तक चाहो ...
    जहाँ तक चाहो ....!!!!kitna achcha likhi hain....

    ReplyDelete
  18. सभी क्षणिकाएं लाज़वाब...

    ReplyDelete
  19. गहन भाव लिए सुंदर अभिव्यक्ति ......!!

    ReplyDelete
  20. पर जो देहलाता है सबसे ज्यादा !
    वह है शोर-
    सन्नाटे का ...!!!

    ....बिल्कुल सच...सभी क्षणिकाएं बहुत प्रभावी और अंतस को छू गयीं...

    ReplyDelete
  21. मौन से बढ़िया साथी आज तक नहीं मिला
    वह न रोकता है न टोकता है ---एकदम सच कहा ---सुंदर अभिव्यक्ति सशक्त लेखनी से --

    ReplyDelete