Monday, January 28, 2013

कोशिश





हर मुनासिब कोशिश की तुम्हें मनाने की
तुमने तो  ठान ली थी ...बस दूर जाने की

जानते थे तेरी किस बात से डर लगता है
अपना ली वही आदत पार पाने की

बहुत कोशिश थी गमे-दौराँ से रूबरू करूँ
तुम्हें तो जिद्द थी -सिर्फ अपनी सुनाने की

ज़ार ज़ार चाहा बरबादियों का इल्म तो हो
तुमने तो ठान ली थी..तबाहियाँ मचाने की

अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की

21 comments:

  1. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की

    लाजवाब लिखी हैं आंटी


    सादर

    ReplyDelete
  2. अब क्या मनुहार किस बात का हवाला - मैंने तो विश्वास किया तुम पर,खुद पर

    ReplyDelete
  3. मन की टीस.....शब्दों में !

    ReplyDelete
  4. वाह ! क्या खूब कहा है..

    ReplyDelete
  5. बहुत कोशिश थी गमे-दौराँ से रूबरू करूँ
    तुम्हें तो जिद्द थी -सिर्फ अपनी सुनाने की
    यह शेर सबसे अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत ही लाजवाब रचना....

    ReplyDelete
  7. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की
    बहुत खूबसूरत... लाजवाब

    ReplyDelete
  8. गजब अभिव्यक्ति-
    उम्मीदें करती रही, दूर तुम जाते रहे-

    आभार आदरेया ||

    ReplyDelete
  9. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की
    बहुत खूबसूरत
    New post तुम ही हो दामिनी।

    ReplyDelete
  10. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की,,,,

    लाजबाब,खूबशूरत गजल लिखने की बधाई,,,,सरस जी,,,

    recent post: कैसा,यह गणतंत्र हमारा,

    ReplyDelete
  11. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की


    बहुत खूब ....

    ReplyDelete
  12. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (30-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  13. ज़ार ज़ार चाहा बरबादियों का इल्म तो हो
    तुमने तो ठान ली थी..तबाहियाँ मचाने की

    अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की

    पाँचों की पाँचों एक से बढकर एक लेकिन अंतिम दो लाइन ने निःशब्द कर दिया ....

    ReplyDelete
  14. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की
    हृदयस्पर्शी पंक्तियाँ...
    बेहद भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  15. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की

    दुनिया के अलम खुद-ब-खुद मिट जाएँ अगर ऐसा नहीं हो. चोट तो उन्ही से लगती है जिनसे चोट ना लगने की सबसे ज्यादा उम्मीद होती है .

    सारे शेर बहुत अच्छे लगे.

    ReplyDelete
  16. अब इल्तिजा क्या करें और शिकायत क्या
    हाथ खींचा जिससे उम्मीद थी बचाने की....वाह..बहुत खूब लि‍खा है आपने

    ReplyDelete
  17. वाह . बहुत सुन्दर प्रस्तुति . हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  18. सुंदर शायरी सरस जी ...!!
    बधाई ...

    ReplyDelete
  19. maene kcuhh din pahle us shaks ko khoya jisne kabhi mujhe toot kr chaha tha, ghalti uski nhi meri thi mae darr aur svaarth ke kaaran use apna nahi paya, ab vo kisi aur ka jeeevan saathi hae.. aapki shayari ne uski yaad dila di.laga ye hr ek baat uske dil se bhi mere lie nikli hogi.. aur jb ye padh kr meri aaknhome aansu hae toh us apr kyaa beeti hogi jb maene uska dil toda..khaer aap likhti rahie, bahut umdaa likhti haen.

    ReplyDelete