Monday, March 4, 2013

....बोझ




अपने दर्द, अपनी तकलीफें
छिपाने की तुम्हारी हर कोशिश
नाकाम हो जाती है -
जब सोते हुए -
तुम्हारे धूप से झुलसे
माथे की सिलवटों के बीच
छिपी श्वेत गहरायी लकीरें पढ़ती हूँ ...
उस शांत नीरव चेहरे से
रिसती थकान
तुम्हारी तकलीफें  ...
तुम्हारे बोझ को मेरे सामने
उघाड़ देती हैं ....

कितना सहते हो घर से बाहर !
और ऐसे में
जब अनायास ही
तुम्हारी खीज पर बिफर पड़ती हूँ -
तब!
नहीं छिप पाता वह तुम्हारा
टूटकर बिखरना !

तुम मुझसे सिर्फ
सुकून ही तो मांगते हो -
दुनिया से मिले बोझों को
कुछ देर उतारना चाहते हो ...
मेरी गोद में सर रख -
हलके होना चाहते हो !

और मैं...
तुम्हारे तेवर ...
तुम्हारी झुंझलाहट के एवज में -
छीन लेती हूँ -
वह छोटासा सुख !
और पोस्ती हूँ 'अपने' अहम् को !!!

33 comments:

  1. बहुत ही भावपूर्ण कविता.

    ReplyDelete
  2. एक हकीकत को पिरोया है आपने-
    बच्चों की जिम्मेदारी निभाने के बाद-
    जब इक-दुसरे की अधिक जरुरत होती है तब--------

    पोसा जाता इत अहम्, उत एक्स्ट्रा की चाह |
    अपने अपने कर्म पर, रखते युगल निगाह |
    रखते युगल निगाह, घरेलू जिम्मेदारी |
    मिलकर लेते बाँट, नहीं कोई आभारी |
    बढती जाए आयु, बढे कुछ अधिक भरोसा |
    ह्यूमर होता शून्य, अहम् दोनों ने पोसा ||

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  4. बेहद सहज तरीके से माथे की सिलवटों को निहारती पोस्ट.. उम्दा ..

    ReplyDelete
  5. गहराती अनुभव की सुंदर छटा है आज आपकी कविता मे...
    बहुत सहज और सुंदर अभिव्यक्ति ....
    शुभकामनायें सरस जी ...!!

    ReplyDelete
  6. उलझे सवाल का उम्दा जवाब .....
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  7. सार्थक सीख की और इंगित कराती रचना .... बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. और मैं...
    तुम्हारे तेवर ...
    तुम्हारी झुंझलाहट के एवज में -
    छीन लेती हूँ -
    वह छोटासा सुख !
    और पोस्ती हूँ 'अपने' अहम् को !!!

    एक बेहद गहन तस्वीर पेश की है।

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत भाव. बहुत सुन्दर तरीके से लिखा है आपने. अहम पोसने के अंत ने बता दिया कितनी प्रेम सिक्त कविता है. माथे पर की सिलवटें वाकई कुछ छुपने नहीं रह देती हैं. ग़ालिब का शेर याद आ रहा है -

    वो मेरी चीन ऐ-ज़बीं से ग़म-ऐ-पिन्हाँ समझा
    राज़-ऐ-मक्तूब ब बेरब्ति-ऐ-उन्वा समझा

    (वो मेरे माथे की सिलवटों को देख कर मुझमें छुपा दुःख जान गए
    जैसे ख़त के बेतरतीब तरीके से लिखे शीर्षक से उसमे छुपे असमंजस का पता चलता है )

    ReplyDelete
  10. परिस्थिति के सवाल का जवाब आसानी से नहीं दिया जा सकता ... आप की परिस्थिति क्या हूँ उस वक़्त क्या पता ... पर जानते समझते हुवे किये कर्म का पश्चाताप होना भी संवेदनशील बनाता है ... इसे बाहर लाने की जरूरत है ...

    ReplyDelete
  11. जीवन की इस कठिन डगर में जिम्मेदारियों ,
    के बोझ तले उपजे तनाव को कुछ इसी तरह ,
    कम करते आगे बढ़ते जाते हैं........
    पति-पत्नी के बीच यह भी प्रेम का एक रूप है
    सार्थक रचना ,सरस जी

    ReplyDelete
  12. एक एड आता है टीवी पर मोबाइल फोन का, पति और पत्नी के फोन एक्सचेंज कर देता है बेटा, इस एड को कविता में ढालना होता तो बिल्कुल उसका रूप ऐसा ही होता।

    ReplyDelete
  13. सच्चाई है ये बहुत ही बेहतरीन रचना ...
    बहुत ही बढ़ियाँ

    ReplyDelete
  14. यह आँचल की मीठी खुशबू है,जो फ़ैल रही है ...... अहम् से परे,प्यार के आगे

    ReplyDelete
  15. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (06-02-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  16. हमसफ़र ऐसा ही होना चाहिए बहुत ही बढ़िया
    सादर !

    ReplyDelete
  17. अहम् धीरे धीरे आपस के सम्बन्धों में दरार पैदा कर देता है,,,

    Recent post: रंग,

    ReplyDelete
  18. गहन भावों से भरपूर कविता!

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  20. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  21. आज की ब्लॉग बुलेटिन ज्ञान + पोस्ट लिंक्स = आज का ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  22. खूब .... सच तो शायद यही है......

    ReplyDelete
  23. अपने दर्द, अपनी तकलीफें
    छिपाने की तुम्हारी हर कोशिश
    नाकाम हो जाती है -
    जब सोते हुए -
    तुम्हारे धूप से झुलसे
    माथे की सिलवटों के बीच
    छिपी श्वेत गहरायी लकीरें पढ़ती हूँ .

    सुप्रभात
    लकीरों को महसूस करना उसे जीना हुआ तब अहम् नहीं प्रेम और समर्पण छलक जाता है और खीझना ही प्रेम का दूसरा पहलू है।
    आपने मानव मन के गूढ़ भावों को करीब से छुआ है।

    ReplyDelete
  24. आह!
    चाहे अनचाहे ही , मगर तुम्हारे दर्द को नहीं समझती ,ऐसा नहीं !

    ReplyDelete
  25. गहरी समझ और मन के जुड़ाव में भी कभी-कभी ऐसी स्थितियाँ आ जाती है- संवेदनाए गहनतर करती हुई !

    ReplyDelete
  26. जाने अनजाने कई बार परिस्थितियाँ हावी हो जाती हैं मति भ्रमित करती हैं और बाद में पश्चाताप से मन में ग्लानि होती है इसी ऊहापोह को बहुत खूबसूरती से उतारा है शब्दों में बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर .उम्दा पंक्तियाँ .

    ReplyDelete
  28. अन्दर दबी हुई कुछ ऐसी ही बातों को उभारती हुई..

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर लगभग हर घर में ये होता है

    ReplyDelete
  30. आह ...कैसे छूट गई मुझसे इतनी सुन्दर रचना.
    बेहद गहरे भाव संजोय हैं.

    ReplyDelete
  31. तब!
    नहीं छिप पाता वह तुम्हारा
    टूटकर बिखरना !
    कितने सहज से हैं यह शब्‍द ... पर इनकी गहनता एक आह! के पार पहुँचती है

    ReplyDelete