Monday, April 9, 2012

"सिक्स्त सेन्स"

                                  









 स्पर्श -
अहसासों से भरा वह शब्द
जो रिश्तों की ऊँगली पकड़
खुद अपनी पहचान बनाता है .....
- हर रिश्ते का अपना अनुभव -
जहाँ पिता का आश्वस्त करता स्पर्श -
अपूर्व विश्वास भर जाता है-
वहीँ भ्राता का रक्षा भरा स्पर्श ,
भयमुक्त कर जाता है -
पति या प्रेमी का सिहरन भरा स्पर्श -
असंख्य सितारों की मादकता भर जाता है -
तो वहीँ भीड़ की आड़ लेते लिजलिजे अजनबिओंका घिनोना ,
और अनचाहे रिश्तेदारों का मौका परस्त स्पर्श -
शरीर पर लाखों छिपकलीओं  की रेंगन भर जाता है -
- सभी स्पर्श !
लेकिन कितने भिन्न !!!
और इनकी सही पहचान -
ही हमारा सुरक्षा कवच है ...
 हमारा "सिक्स्त सेन्स" !!!!!!! 

29 comments:

  1. सच है! हमारा ये सिक्स्थ सेन्स स्पर्श क्या नज़रों तक को पढ़ लेता है....

    सचेत कर देता है......

    ReplyDelete
  2. sahi bat ......sparshon ki bhi apni bhasha aur apna apnapan hai.....

    ReplyDelete
  3. सिक्स्थ सेन्स .... यह अद्वितीय अविश्वसनीय होता है , पर यही कवच है , यही बन्द रास्तों को खोलता है

    ReplyDelete
  4. सिक्स्थ सेन्स सही में कवच का काम करता है ... स्पर्श के भिन्न भिन्न अनुभव सही दर्शाये हैं

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बढ़िया आंटी!


    सादर

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया बात कही .सिक्स्थ सेन्स वाकई काम करता है.

    ReplyDelete
  7. सभी स्पर्श भिन्न ....सही विश्लेषण ...

    ReplyDelete
  8. भिन्न स्पर्शों में भेद करती बहुत ही सटीक और शानदार अभिव्यक्ति एक सन्देश भी देती है....बहुत ही सुन्दर।

    ReplyDelete
  9. स्पर्श के भिन्न भिन्न अनुभव और अहसासो का बहुत ही सुन्दर और.सही विश्लेषण ...

    ReplyDelete
  10. - सभी स्पर्श !
    लेकिन कितने भिन्न !!!
    और इनकी सही पहचान -
    ही हमारा सुरक्षा कवच है ..
    निश्चित रूप से ... सही पहचान करती है यह इन्द्रिय ...
    उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  11. sarthak tatha antardvand ko paribhashit karti post aabhar.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर ...बहुत ही सुन्दर इतना सटीक लेखन ..बधाई

    ReplyDelete
  13. सच में यह स्पर्श ....इसकी अनुभूति हर स्तर पर अलग अलग होती है ....जिस तरह का भाव व्यक्ति से जुड़ा होता है उसी तरह की भावनाएं अभिव्यक्ति होती है ...!

    ReplyDelete
  14. सचमुच स्पर्श एक लेकिन अहसास अलग -अलग ... पहचान लेता है इसे हमारा सिक्स्थ सेन्स... एक अलग से अनुभव से भरी सुन्दर अभिव्यक्ति... आभार

    ReplyDelete
  15. वाह!!!बेहतरीन भाव पुर्ण बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,लाजबाब प्रस्तुति,....

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  16. जरूरी नहीं सब में ये सेन्स मुखर हो ... पर प्यार का स्पर्श हो हर कोई समझ ही जाता है ...

    ReplyDelete
  17. आपका सिक्स्त सेन्स तो कमाल का है . सुन्दर शब्द दिया है ..वाह !

    ReplyDelete
  18. bahut hi pyaari rachna hai ,jwaab nahin aap ki"सिक्स्त सेन्स" ka

    ReplyDelete
  19. पति या प्रेमी का सिहरन भरा स्पर्श -
    असंख्य सितारों की मादकता भर जाता है

    jeevant chitran ....yatharth ki anubhuti se paripoorn ...badhai sweearen

    ReplyDelete
  20. स्पर्श और उसके विभिन्न पहलुओं पर आपने बहुत गहन विवेचना की है इस कविता के माध्यम से। एक शे’र इस रचना को समर्पित है :

    तमाम उम्र हथेलियों में सनसनाता है
    जब हाथ किसी का हाथ में आकर छूट जाता है।

    ReplyDelete
  21. छठी इन्द्रिय बहुत काम की चीज़ है . सुँदर विवेचन

    ReplyDelete
  22. वाह अतिउत्तम लाजबाब भाव सिक्स सेन्स एक सुरक्षा कवच की तरह है जिसने इसको समझा उसी ने अपने को बचाया और स्पर्श तो मस्तिष्क से सीधा कनेक्शन रखता है

    ReplyDelete
  23. जहाँ पिता का आश्वस्त करता स्पर्श -
    अपूर्व विश्वास भर जाता है-
    वहीँ भ्राता का रक्षा भरा स्पर्श ,
    भयमुक्त कर जाता है -

    सचमुच स्पर्श एक लेकिन अहसास अलग -अलग

    ReplyDelete
  24. बड़ी बारीकी से हर स्पर्श की व्याख्या की है..
    सिक्स्थ सेन्स यही तो है...सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  25. व्यस्तता के चलते देर से आपके ब्लॉग पर आना हुआ सरस जी। किंतु "सिक्स्थ सैंस" पढकर मन प्रसन्न हो गया। सच! हमारा रक्षा कवच ही तो है हमारी सिक्स्थ सैंस!
    गहन सोच और सुंदर अभिव्यक्‍ति!

    ReplyDelete
  26. काफी दिनों से आपके ब्लॉग पर रचनाएँ पढने के बारे में सोच रही थी . आपकी रचनाओं को पढ़कर एक बात ज़रूर कहना चाहूंगी की आज के इस दौर में इतनी संवेदनशीलता बनाये रखना न केवल स्तुत्य है बल्कि यह काफी विरल भी है. आपकी यह रचना आपके नाम की तरह सरस, सहज, किन्तु भावनाओं के स्तर पर अत्यंत गूढ़ भी है. जिस सरलता से आपने इतनी सरल किन्तु दुष्कर बात को चित्रित किया है वह बहुत सधे हुए लेखन का परिचायक है. आपके ब्लॉग पर आकर बहुत प्रसन्नता हुई. आपकी लेखनी ऐसे ही सृजन करती रहे. सादर शुभकामनायें.

    ReplyDelete