Saturday, March 24, 2012

ज़िन्दगी /मौत




कभी कभी विचलित मन:स्तिथि और अवरुद्ध कंठ से निकलते निकलते परिभाषाएं बदल जाती है ....
ऐसे ही एक पल की सोच ...

ज़िन्दगी

एक अँधा कुआँ -
जिसमें चीखनेवाले कि आवाज़
पलटकर नहीं लौटती -
वह राह-
जहाँ तपते पथरों और पिघलते कोलतार के दरिया  हैं -
वह सफ़र-
जिसे तनहा ही काटना है
वह जुआ -
जिसे हारते हुए भी खेलते जाना है
वह नदी
जिसमें तैरा नहीं जाता ..सिर्फ बहा जाता है
वह पहेली -
जिसके अनेक जवाब हैं ...सब सही !
वह अभिशाप-
जिससे सब ग्रस्त हैं
वह नेयमत-
जो मांगनेसे नहीं मिलती
वह विडम्बना -
जिससे झूझते जाना है  
वह नेत्र -
जो हर आशा को ध्वस्त कर दे
वह तमपुन्ज-
जहाँ कष्ट, मृत्यु, भय पनपते हैं
वह आकर्षण-
जिसे सब अपनाना चाहें
वह त्रासदी -
जिससे कोई मुक्ति नहीं ....
......फिर भी ज़िन्दगी कहलाती है

और मौत !

कितनी सुन्दर शांत और स्थिर
माँ की गोद की तरह
उन थपकियों की तरह -
जो हर थकान को, निचोड़ फ़ेंक दे
उस लोरी की तरह -
जो विचलित मन को शांत कर दे
वह राहत-
जो जलती चोट पर , पानी की सी ठंडक पहुंचा दे
वह टिमटिमाती रौशनी -
जो हर ठोकर से बचा ले
वह खूबसूरत चाँद -
जिसकी चांदनी में शिथिल पड़ा शरीर
सभी सुख सुख से परे हो जाये -

-तकलीफों की एक सुन्दर इति -  




28 comments:

  1. सोच जब कई दिशाओं से गुजरती है , तभी कुछ मोती उसके हाथ लगते हैं . आपके एहसास उन मोतियों से लगते हैं , वरना ख्यालों की लहरें तो अनवरत शोर मचाती हैं

    ReplyDelete
  2. मौत कभी हश्र का मोहताज़ नहीं
    मौत आगाज़ है अंजाम नहीं

    बस ज़िन्दगी ज़िन्दगी है इसका अंदाज़ जुदा है
    इसके जीने का बहाना और तरीका निराला है
    जीना आ गया तो ठगते ठगाते कट जाती है

    कुछ बाकि है कुछ गुजर गई कुछ और गुजर जायेगी
    रपटीली राहों में साकी ज़िन्दगी बसर हो जाएगी

    जीवन बस ऐसा ही है .
    आपकी लाइन इतने सुन्दर और आपने लगे की कुछ कहने की
    हिम्मत बनी .खुबसूरत शब्दों के लिए क्यों कहूँ धन्यवाद् .

    ReplyDelete
  3. jivan ke anubhavon ke motiyon ki sarthak mala .bdhai sveekaen.

    ReplyDelete
  4. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/03/6.html

    ReplyDelete
  5. जिंदगी और मौत को आपने अच्छे से व्यक्त किया है....सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर ,,,गहन भाव अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. और मौत !
    कितनी सुन्दर शांत और स्थिर
    माँ की गोद की तरह
    उन थपकियों की तरह -
    जो हर थकान को, निचोड़ फ़ेंक दे
    उस लोरी की तरह -
    जो विचलित मन को शांत कर दे
    वह राहत-...
    जिन्दगी औरमौत की सच्चाई को सुन्दर शब्द दिए हैं आपने... सुन्दर रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  8. कितनी सुन्दर शांत और स्थिर
    माँ की गोद की तरह
    उन थपकियों की तरह -
    जो हर थकान को, निचोड़ फ़ेंक दे
    बहुत ही सुन्दर..........
    कृपया थपकते रहियेगा
    सादर
    यशोदा

    ReplyDelete
  9. "-तकलीफों की एक सुन्दर इति -"

    ताज्जुब है फिर भी कोई तकलीफ से मुक्ति नहीं पाना चाहता है...!
    जीवन एक उलझाव है......और जान कर भी हम इसी में सुखी हैं....!!

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना....!!

    ReplyDelete
  11. बहुत सही लिखा है सरस जी, कभी कभी जिंदगी मौत से भी डरावनी प्रतीत होती है ....... अवसाद के उन पलों की मनः स्तिथि का सटीक चित्रण!

    ReplyDelete
  12. क्या बात है सरस जी............

    जिंदगी पर मौत भारी पड़ गयी.....
    मरने को जी चाहने लगा....

    गहन भाव.....

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर बिंबों में जिन्दगी और मौत को दर्शाया है आपने..

    ReplyDelete
  14. स्थूल रूप को निहारता सूक्ष्म शरीर .खुद से गुफ्तु गु एक बार फिर कर ले .बन आदमी ज़रूर बन ..

    यही तो भौतिक द्वंद्व है फिर भी आदमी मौत से डरता है ज़िन्दगी से नहीं ....

    ReplyDelete




  15. आदरणीया सरस जी
    सस्नेहाभिवादन !

    ज़िंदगी और मौत की नई परिभाषा दी है आपने …

    मौत !
    कितनी सुन्दर शांत और स्थिर
    माँ की गोद की तरह
    उन थपकियों की तरह -
    जो हर थकान को, निचोड़ फ़ेंक दे
    उस लोरी की तरह -
    जो विचलित मन को शांत कर दे
    वह राहत-
    जो जलती चोट पर , पानी की सी ठंडक पहुंचा दे
    वह टिमटिमाती रौशनी -
    जो हर ठोकर से बचा ले
    वह खूबसूरत चाँद -
    जिसकी चांदनी में शिथिल पड़ा शरीर
    सभी सुख सुख से परे हो जाये -

    -तकलीफों की एक सुन्दर इति -



    …हां, यह भी एक दृष्टिकोण है …
    लेकिन मेरा सविनय निवेदन है कि जीवन में हताशा - निराशा हावी न हो …ऐसे यत्न होते रहने चाहिए …
    :)



    ~*~नवरात्रि और नव संवत्सर की बधाइयां शुभकामनाएं !~*~
    शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  16. कितनी सुन्दर शांत और स्थिर
    माँ की गोद की तरह bahut achchi prastuti....

    ReplyDelete
  17. और मौत !

    कितनी सुन्दर शांत और स्थिर
    माँ की गोद की तरह
    उन थपकियों की तरह -
    जो हर थकान को, निचोड़ फ़ेंक दे
    उस लोरी की तरह -
    जो विचलित मन को शांत कर दे
    वह राहत-
    अनुपम भावों को समेटे हुए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  18. जीवन और मौत ... दोनों को अपने ही अंदाज़ से लिखा है आपने ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  19. जब जिंदगी में चारों तरफ प्रतिकूलताएं हों तो ऐसे में जिंदगी के मायने बदल जाते हैं. सच कहा मौत तकलीफों का अंत है. फिर भी जिंदगी ही चाहते हैं हमसभी क्योंकि मौत के बाद क्या होता कौन जाने. सारे बिम्ब जो जिंदगी के लिए हैं उनकी अनुभूति तो जीवित रहने में है मौत के बाद...
    बहुत गहरे भाव, जीवन के करीब. बधाई सरस जी.

    ReplyDelete
  20. ज़िन्दगी के रंग कई रे साथ रे , ज़िन्दगी के रंग कई रे ..............

    ReplyDelete
  21. i am totaly specchless for these graet post by you....amazing....haits off (Hatrik :-))

    ReplyDelete
  22. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  23. sundar,bahut sundar rachna,bahut acha likhti hai saras ji aap,bdhaai...

    ReplyDelete
  24. बहुत ही गहन और अत्यंत सुंदर अभिव्यक्ति ..बहुत चिंतन के फलस्वरूप रचित अत्यंत विचारणीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. Kya likhu ... aapne to nishabd ker diya hai ...itna sunder likha hai ki bas keval ...WAH WAH aur WAH ....

    ReplyDelete
  26. जिंदगी और मौत दोनो को समझाया है आपने। मेरी समझ से ऐसा इसलिए लगता है कि जिंदगी हम जीते हैं और मौत हमने देखा नहीं। जिसे जाना नहीं वो खूबसूरत, जिसे भोगा वह दुखदायी लगती है। यही विरोधाभास है..यही सच है।

    ReplyDelete