Friday, September 7, 2012

हाइकु- परछाइयाँ




देती हैं साथ
रौशनी में ही सिर्फ
परछाइयाँ

कहलाती हैं
सच्ची दोस्त फिर भी
परछाइयाँ

तेज धूप में
सिकुड़ जाती हैं ये
परछाइयाँ

पर फैलती
सुबह शाम यह
परछाइयां

दुःख में कम
सुख में अधिक ये
परछाइयाँ

कहलाती हैं
हमदर्द फिर भी
परछाइयां

छूना चाहो तो
हाथ नहीं आती ये
परछाइयाँ

साथ होने का
दावा क्यों करती ये
परछाइयाँ

17 comments:

  1. adbhut soch ...
    bahut sundar haiku ...
    shubhkamnayen Saras ji ..

    ReplyDelete
  2. सचमुच बहुत सुंदर प्रसंसनीय हाइकू,,,,सरस जी बधाई,,,

    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    ReplyDelete
  3. खेलती हैं संग मेरे परछाइयां
    आंखमिचौली में गुम होती परछाइयां
    अपनी लगती हैं ये परछाइयां
    जाने कितनी आकृतियाँ दे जाती हैं परछाइयां

    ReplyDelete
  4. ....साथ होने का
    दावा क्यों करती ये
    परछाइयाँ

    सही सवाल..
    .जब अँधेरे में साथ छोड़ जाती है,परछाइयां

    ReplyDelete
  5. अंधेरे में ये
    साथ छोड़ देती हैं
    परछाइयाँ

    खूबसूरत हाइकु

    ReplyDelete
  6. छूना चाहो तो
    हाथ नहीं आती ये
    परछाइयाँ

    साथ होने का
    दावा क्यों करती ये
    परछाइयाँ

    beautiful :) :)

    ReplyDelete
  7. सुना है दुःख में
    साथ छोड़ जाती है
    परछाइयाँ...
    बहुत सुंदर हाइकू...

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ... ये परछाइयां ...
    बहुत खूबसूरत हाइकू हैं सभी इन परछाइयों के साथ ...

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत परछाईया

    ReplyDelete
  10. दुःख में कम
    सुख में अधिक ये
    परछाइयाँ

    कहलाती हैं
    हमदर्द फिर भी
    परछाइयां
    bilkul sch aur sateek ....badhai saras ji

    ReplyDelete
  11. सभी सुन्दर हैं....परछाईंयां

    ReplyDelete
  12. खूबसूरत ...परछाईयाँ

    ReplyDelete
  13. har hal men khoobsurat hoti hai ye parcchaiyan ...

    ReplyDelete
  14. छूना चाहो तो
    हाथ नहीं आती ये
    परछाइयाँ

    साथ होने का
    दावा क्यों करती ये
    परछाइयाँ
    वाह ... बेहद सशक्‍त पंक्तियां ...आभार

    ReplyDelete
  15. छूना चाहो तो
    हाथ नहीं आती ये
    परछाइयाँ

    साथ होने का
    दावा क्यों करती ये
    परछाइयाँ...

    .....खूबसूरत परछाईया!

    ReplyDelete
  16. Superb!!
    har ek haiku behtreen hai!!

    ReplyDelete
  17. कमाल का हाइकू लिखती हैं आप..

    ReplyDelete