Saturday, September 15, 2012

इक्षा







इक्षा हूँ मैं -
एक सपना-
एक मृगतृष्णा -
एक सीमाहीन विस्तार -
विभिन्न रंग ...रूप ....आकार...!
उगती हूँ.... अंत:स की गहराईयों में -
खोजती हूँ उजाले -
उम्मीदों के -
संभावनाओं के -
विस्थापना का डर घेरे रहता है
आशंकाएँ सुगबुगाती हैं भीतर ...
लेकिन आस फिर भी जीता रखती है मुझे ...
जानती हूँ ...
अभी और तपना है ...
निखरना है ...
कसौटी पर खरा उतरना है
सिद्ध करना है स्वयं को
ताकि न्यायसंगत हो सके मेरा वजूद
अकाल मृत्यु का डर मझे नहीं
जब तक मनुष्य रहेगा -
कुछ पाने की होड़ रहेगी -
सपने देखने की कूवत रहेगी -
एक मरणासन की आखरी उम्मीद बनकर भी
जीवित रहूंगी मैं ....!

31 comments:

  1. bahut sundar soch ...bahut sarthak rachna Saras ji ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रोत्साहन के लिए आभार अनुपमाजी

      Delete
  2. खोजती हूँ उजाले -
    उम्मीदों के -
    संभावनाओं के -
    विस्थापना का डर घेरे रहता है
    आशंकाएँ सुगबुगाती हैं भीतर ...

    कोई लाइन नहीं जिस की कमी पर कुछ भी कहा जाये कि इस लाइन ने मन के भावों को उजागर नहीं किया .मुझे आपके लेखनी को पढ़कर कभी कभी खुद पर सोचना पड़ता है कि इतनी सूक्ष्म विवेचना जीवन कि मैं क्यों नहीं कर पाता तब खट से मन कहता है .तुम सरस दरबारी नहीं हो फिर कहाँ ये सब लिख पाओगे . शत शत नमन .

    ReplyDelete
  3. एक मरणासन की आखरी उम्मीद बनकर भी
    जीवित रहूंगी मैं ....!
    जीवित hoonरहूंगी मैं ....!

    ReplyDelete
  4. मृगतृष्णा कहो या तृष्णा
    उपलब्धि मानो या घाटे का सबब
    मैं हूँ और रहूंगी....क्योंकि सृष्टि मुझसे है
    और मैं कर्त्तव्य से अलग न थी न हूँ न हो सकती हूँ ...
    सर पर एक हाथ हो-एक छोटी सी उम्मीद
    महँगी तो नहीं ...

    ReplyDelete
  5. man ko bhedti si pratit hoti hai .....aapki yh rachna ....

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर सरस जी.....
    विस्थापना का डर घेरे रहता है
    आशंकाएँ सुगबुगाती हैं भीतर ...
    लेकिन आस फिर भी जीता रखती है मुझे ...

    जब तलक सांस है...ये आस न टूटे...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. जब तक मनुष्य रहेगा -
    कुछ पाने की होड़ रहेगी -
    सपने देखने की कूवत रहेगी -
    एक मरणासन की आखरी उम्मीद बनकर भी
    जीवित रहूंगी मैं ....!

    और यही उम्मेद जीने को प्रेरित करती रहेगी :) ... सुंदर और गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. ऐसे जज्बे को ही दिल सलाम करता है..बहुत सुन्दर कहा है...

    ReplyDelete
  9. http://vyakhyaa.blogspot.in/2012/09/blog-post_16.html

    ReplyDelete
  10. खोजती हूँ उजाले -
    उम्मीदों के -
    संभावनाओं के -

    ये उजाले हमेशा खोजने के बाद साथ रखने चाहियें ... उम्मीद बनी रहनी जरूरी है ... संभावनाएं तब तक रहनी चाहियें जब तक ये संसार है ...

    ReplyDelete
  11. एक मरणासन की आखरी उम्मीद बनकर भी
    जीवित रहूंगी मैं ....!बेहद गहन विवेचन

    ReplyDelete
  12. अभी और तपना है ...
    निखरना है ...
    कसौटी पर खरा उतरना है
    सिद्ध करना है स्वयं को
    ताकि न्यायसंगत हो सके मेरा वजूद .

    ये कमोबेश हर नारी को सिद्ध करना ही पड़ा है , भले ही उसका स्वरूप कुछ भी हो. बहुत सुंदर भावों को शब्दों में ढाला है.

    ReplyDelete
  13. एक मरणासन की आखरी उम्मीद बनकर भी
    जीवित रहूंगी मैं ..वाह: यही भाव जीने को हमेशा प्रेरित करती है....बहुत सुन्दर ..सरस जी..

    ReplyDelete
  14. लेकिन आस फिर भी जीता रखती है मुझे ...
    जानती हूँ ...
    अभी और तपना है ...
    निखरना है ...
    कसौटी पर खरा उतरना है

    यही जीवन का सार है...बहुत सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  15. जब तक मनुष्य रहेगा -
    कुछ पाने की होड़ रहेगी -
    सपने देखने की कूवत रहेगी -
    एक मरणासन की आखरी उम्मीद बनकर भी
    जीवित रहूंगी मैं ....!

    वाह बहुत ही सुन्दर.....माफ़ कीजिये मैं 'इक्षा' का मतलब नहीं समझा.....क्या ये 'इच्छा' है?

    ReplyDelete
  16. कसौटी पर खरा उतरना है
    सिद्ध करना है स्वयं को
    ताकि न्यायसंगत हो सके मेरा वजूद
    अकाल मृत्यु का डर मझे नहीं
    जब तक मनुष्य रहेगा -

    बहुत सुंदर। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  17. इसीलिए जीवन यूं डोलता रहता है |

    ReplyDelete
  18. जीवित तो रहना ही है तो एक उम्मीद के सहारे क्योंनही..
    बहुत सुन्दर भाव.

    ReplyDelete
  19. आज 18/09/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  20. विपरीत हालातों में कोई हो न हो साथ गर हौसला साथ हो तो हालातों से निजात मिल ही जाती हैं
    बहुत बढ़िया ..

    ReplyDelete
  21. ek chhote se shabd ka itna vistar aur us par aapki shabdaawali ka kamaal...bahut khoob. ummeed iski khaad hai jisse ye amar rahti hai.

    ReplyDelete
  22. मनुष्य के भीतर कि जिजीविषा का सुन्दर व सार्थक वर्णन .... शब्द चयन अद्भुत बन पड़ा है... बहुत खूब!

    ReplyDelete
  23. बेहद सशक्‍त भाव

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर और प्रभावी रचना...

    ReplyDelete
  25. प्रेरणा भरती और आत्म विश्वास जगाती सुन्दर रचना
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  26. जब तक मनुष्य रहेगा -
    कुछ पाने की होड़ रहेगी -
    सपने देखने की कूवत रहेगी -
    एक मरणासन की आखरी उम्मीद बनकर भी
    जीवित रहूंगी मैं ....!
    aadhyatmik bhav
    rachana

    ReplyDelete
  27. बेहद खूबसूरत भाव

    ReplyDelete