Monday, June 11, 2012

मरहम


मोहल्ले की झोपड़ पट्टी में कोहराम  मचा था.....
रामू रिक्शेवाले के बेटे ने खुदखुशी कर ली 
अरे वही होनहार बालक न ...जो पढाई में अव्वल था 
पुरे मोहल्ले की शान था ...
हाँ वही ...दाखिले के लिए गया ...
मगर उसका हक ...किसी  रईस को मिल गया ..
उसकी मेहनत ने हिम्मत छोड़ दी 
और जिजीविषा ने जीवन की बागडोर तोड़ दी ....
मृत बेटे के हाथ में एक पुर्जा था ...
"वह कोमल स्पर्श याद है,
जब मेरी चोट को सहलाकर,
दोबारा खड़े होने का साहस दिया था आपने !
मेरे पिता...मेरे परम ईश
उन्ही हाथों के छालों पर ..मरहम लगाने की ..अब मेरी बारी है....."  


21 comments:

  1. बहुत ही मार्मिक सच।


    सादर

    ReplyDelete
  2. उफ़ बेहद मार्मिक अभिव्यक्ति.....शानदार।

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन अभिव्यक्ति की मार्मिक रचना,,,,, ,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: ब्याह रचाने के लिये,,,,,

    ReplyDelete
  4. बहुत ही मार्मिक रचना,,,,, एक दुखदाई सच..

    ReplyDelete
  5. अंतस को छू गयी ............एक दुखद सत्य है
    कोई हल नहीं देता दिखाई ...सब बेबस हैं व्यवस्थ के आगे

    ReplyDelete
  6. मौत या कहूँ ख़ुदकुशी किसी भी स्थिति में किसी भी समस्या का समाधान नहीं ,यह एक नपुसकता की निशानी है .पलायन वह भी इश्वर की अनुपम कृति मानव जीवन से कभी नहीं होना चाहिए .जीवन है तो सब कुछ पाया जा सकता है और जीवन ही नहीं तो क्या खोना क्या पाना ? मरहम एक खुबसूरत रचना जो जीवन की उपयोगिता
    इश्वर के प्रति आस्था और आशा का संचार कराती है ?

    ReplyDelete
  7. अंतस को छूती मार्मिक अंतर्कथा

    ReplyDelete
  8. बहुत मार्मिक ! दिल को छूती पंक्तियाँ!


    मेरे ब्लॉग का link - www.sushilashivran.blogspot.in

    आपका इंतज़ार है मेरे ब्लॉग पर !

    ReplyDelete
  9. samaj ki visangatiyon ko ujagar karti rachana.....

    ReplyDelete
  10. पढ़ कर जी कड़वाहट से भर गया.....
    मगर यही सच्चाई है समाज की,हमारे सड़ते सिस्टम की ...क्या करें!!!

    ReplyDelete
  11. aaj kal aesa hi ho raha hai bahutu sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete
  12. निरुत्तर से एहसास कहें तो क्या !

    ReplyDelete
  13. उफ़ ..आखिर करें तो क्या करें..

    ReplyDelete
  14. भावमय करती प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  15. मर्मस्पर्शी रचना.....बेबसी का सजीव चित्रण
    आभार

    ReplyDelete
  16. मार्मिक .. पर क्या सचमुच वो मरहम लगा सका ... बेबसी में खुदकशी क्या उस पिता परम ईश कों कभी शांति दे पायगी ...

    ReplyDelete
  17. मौत किसी भी समस्या का समाधान नहीं .जिंदगी है तो सब कुछ पाने की संभावना बनती है ,लेकिन जिंदगी ख़त्म तो क्या खोना क्या पाना ,जीवन इश्वर की अनुपम और अमूल्य कृति फिर उससे ऐसा बर्ताव क्यों ?

    ReplyDelete
  18. ओह...मार्मिक..
    Speechless!

    ReplyDelete