Tuesday, August 27, 2013

अलौकिक प्रेम



राधा के महावरी पांवों को-
माधवने माथे धारा था
तब रुक्मिणी औए सत्यभामा से भी
ऊँचा स्थान दे डाला था -
राधा फिर भी आशंकित सी
कान्हा का प्रेम परखती थी -
जबकि कान्हा ने भक्ति में -
अपना सर्वस्व दे डाला था
है भक्तों को पाना मुझको
तो राधा नाम का स्मरण करें -
भक्ति होगी फलदायक तब
मुझसे पहले उसे नमन करें -
जिसको कहती निर्मोही वह
उसने यह वचन निभाया था -
कान्हा से पहले भक्तों ने
राधा का नाम पुकारा था .
जिस प्रकार सूर्य है कांतिहीन
जब किरणें पास नहीं उसके -
वैसे माधव अस्तित्वहीन
जब राधा साथ न थी उनके
इस दैवी निश्छल प्रेम का अर्थ
भक्तों से सदा अनजाना था -
इस अन्तरंग शक्ति को अपनी
माधवने सर्वस्व दे डाला था .




21 comments:

  1. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,,,
    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,सादर!

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  2. जिस प्रकार सूर्य है कांतिहीन
    जब किरणें पास नहीं उसके -
    वैसे माधव अस्तित्वहीन
    जब राधा साथ न थी उनके
    बहुत ही भक्तिपूर्ण ख़ूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  3. " अनुखन माधव माधव सुमिरियत सुन्दरि भेलि मधाई । या गुण रुप सुभावहिं बिसरल अपनेहुँ गुन लुब्धाई । " सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  4. जिस प्रकार सूर्य है कांतिहीन
    जब किरणें पास नहीं उसके -
    वैसे माधव अस्तित्वहीन
    जब राधा साथ न थी उनके

    सच ही राधा के बिना कृष्ण कहाँ ... बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत खुबसूरत भाव से ओत प्रोत रचना
    latest postएक बार फिर आ जाओ कृष्ण।

    ReplyDelete
  6. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,सादर!!आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (29-08-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : शतकीय अंक" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  7. खुबसूरत अभिवयक्ति......श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......

    ReplyDelete
  8. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......राधा और कृष्ण का अनुपम प्रेम ........खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  9. श्री कृष्णजन्मोत्सव की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  10. HE MRISHN GOVIND HARE MURARE
    HE NAATH NARAYAN WASUDEW

    ReplyDelete
  11. यह राधा-भाव ही कृष्ण में लीन होने की सामर्थ्य देता है!

    ReplyDelete



  12. ♥ जय राधे ♥ जय श्री कृष्ण ♥
    ✿⊱╮✿⊱╮✿⊱╮
    ..(¯`v´¯) •./¸✿
    (¯` ✿..¯))✿/¸.•*✿
    ...(_.^._)√•*´¨¯(¯`v´¯).
    ...✿•*´)//*´¯`*(¯` ✿ .¯)
    .....✿´)//¯`*(¸.•´(_.^._)
    ♥ जय राधे ♥ जय श्री कृष्ण ♥

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयां और शुभकामनाएं !


    ✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿
    है भक्तों को पाना मुझको
    तो राधा नाम का स्मरण करें -
    भक्ति होगी फलदायक तब
    मुझसे पहले उसे नमन करें -

    वाऽहऽऽ…!
    आपने तो कृष्ण को पाने का रहस्य बता दिया...
    आभार आदरणीया सरस जी

    सुंदर मनभावन रचना के लिए साधुवाद
    ✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿
    मंगलकामनाओं सहित...
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  13. हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  14. राधा है तो कृष्ण हैं ... कृष्ण है तो राधा ...
    इस आलोकिक प्रेम को उनके जैसा हो के ही समझा जा सकता है ...

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब
    कभी यहाँ भी पधारें

    ReplyDelete
  16. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  17. जिस प्रकार सूर्य है कांतिहीन
    जब किरणें पास नहीं उसके -
    वैसे माधव अस्तित्वहीन
    जब राधा साथ न थी उनके
    bhakti se sarabor ..:)

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर रचना...कोटिशः बधाई।।।

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर रचना.. राधा का स्थान तो सर्वोपरि है , कृष्ण राधा से विलग नहीं .

    ReplyDelete