Monday, April 15, 2013

परिभाषाएँ - (५) ..............सलीब !




सलीब !

वह बोझ !
जिसे हर किसी को ढोना है
अलग अलग पड़ावों पर
अलग अलग रूपों में ....!!!

वह सज़ा !
जो समाज के ठेकेदारों ने
बेगुनाहों को दी है
बगैर सच जाने .....!!!

वह लेखा जोखा !
जहाँ अपने हर किये की
सफाई देनी होती है
समाज को ...खुद को ......!!!

वह सांत्वना !
जो कभी कभी
अपने ही पापों का बोझ
कुछ कम कर देती है .....!!!

वह उम्मीद का क़तरा  !
जो इंसान की हिम्मत को
कुछ और ठेलता है -
'बस अब दर्द ख़त्म ही हुआ',समझाता हुआ ....!!!

वह ख़तरा !
जो हरदम अहसास दिलाता है
की जहाँ यह बोझ उतरा
तुम्हारा अंत नज़दीक है ......!!!

वह घाव !
जो अपनों के दिए दर्द हैं
जो कभी अनजाने में ...कभी जबरन
कर दिए थे ...रूह पर .......!!!

वह धरोहर !
जिसे सहेजना है
उम्र के आखरी पड़ाव तक
बिना रियायत .......!!!

         

31 comments:

  1. बेहतरीन उअर लाजवाब......हैट्स ऑफ इसके लिए ।

    ReplyDelete
  2. बढ़िया परिभाषाएं .आखिरी वाली जोरदार है.

    ReplyDelete
  3. वह धरोहर !
    जिसे सहेजना है
    उम्र के आखरी पड़ाव तक
    बिना रियायत .......!!!
    क्‍या बात है !!! बहुत खूब कहा आपने !!!!!!!!!

    ReplyDelete
  4. kisi cheez ko alag-alag aur itne kalatmak dhang se dekh leti hain aap, bahut sundar likha hai aapne aur Saleeb ko kisi dharm-mazhab se na jodkar zindagi k pahluon se joda hai, ye zyada sukhad hai!

    ReplyDelete
  5. bahut hi sundar rachna lagi yah mujhe ...

    ReplyDelete
  6. बहुत ही बेहतरीन रचना की प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १६ /४/ १३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना को चुनने के लिए आपका हार्दिक आभार राजेशजी ...:)

      Delete
  8. वह घाव !
    जो अपनों के दिए दर्द हैं
    जो कभी अनजाने में ...कभी जबरन
    कर दिए थे ...रूह पर ..
    ------------------
    निशब्द करते हैं आपके शब्द ....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर परिभाषाएँ... भाभी !

    ReplyDelete
  10. सलीब अपने हिस्से का,कीलें अपना स्वभाव

    ReplyDelete
  11. हर परिभाषा अपने आप में सटीक .... सोचने को विवश करती हुई ।

    ReplyDelete
  12. बहुत उत्कृष्ट ,निशब्द करती सुंदर प्रस्तुति,आभार सरस जी

    Recent Post : अमन के लिए.

    ReplyDelete
  13. नतीजा यही कि एक बोझ जो आजीवन ढोना है!

    ReplyDelete
  14. वह लेखा जोखा !
    जहाँ अपने हर किये की
    सफाई देनी होती है
    समाज को ...खुद को ...

    सच कहा है ... जवाब देना होता है अपने किये का ... सलीब देख के डर तभी लगता है ... इस मंजर पे अपने आप ही सच निकलने लगता है ...

    ReplyDelete
  15. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  16. आपके सलीब को समर्पित

    क्यों मान लें किसी दायित्व को बोझ,
    न बन समाज का मुखिया किसी को दर्द बांटे,
    बनकर उम्मीद हर दिल में बसकर,
    ता उम्र चलो ये दरख्त प्यार का उगाकर देखें

    ReplyDelete
  17. जीवन को व्यक्त करती
    यथार्थ की जमीन से जुडी
    विचारपूर्ण भावुक सार्थक रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई

    ReplyDelete
  18. वह घाव !
    जो अपनों के दिए दर्द हैं
    जो कभी अनजाने में ...कभी जबरन
    कर दिए थे ...रूह पर .......!!!

    सलीब !

    वह बोझ !
    जिसे हर किसी को ढोना है !!

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर सार्थक रचना..

    ReplyDelete
  20. वाह.....
    बहुत बढ़िया.....
    बेहतरीन...........

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन



    सादर

    ReplyDelete
  22. गहन सत्य .....
    बहुत सही परिभाषाएं सरस जी ...!!

    ReplyDelete
  23. मर्मस्पर्शी ....आपका यूँ शब्दों को बांधना प्रभावित करता है

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर सोचने को विवश करती मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  25. बहुत बढ़िया परिभाषाएं ..

    ReplyDelete
  26. गहरी सोच लिये सुंदर कविता सोचने को विवश करती है.

    ReplyDelete