Tuesday, October 8, 2013

विरह





"कागा सब तन खइयो...चुन चुन खइयो माँस
दो नैना मत खइयो ...मोहे पिया मिलन की आस "

......
सुना था कभी !
और उस पराकाष्ठा को समझना चाहा था,
जो विरह की वेदना से उगती है -
और उसे उस दिन जाना -
जब सीमा पर तुम्हारे लापता होने की खबर आयी-
जैसे सब कुछ भुर भुरा कर ढेह गया !!
बस एक आस बाक़ी थी
जो खड़ी रही
मजबूती से पैर जमाये -
पांवों के नीचे से फिसलती रेत को
पंजों से भींचती हुई ..
कहती हुई -
"तुम आओगे ज़रूर ..."
मैं आज भी आँखों में दीप बाले बैठी हूँ -
वह आस..
आज भी चौखट से लगी बैठी है ...!!!

21 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. बहुत सु्न्दर

    ReplyDelete
  3. वह आस..
    आज भी चौखट से लगी बैठी है ...!!!
    ओह बेहद भावपूर्ण

    ReplyDelete
  4. मार्मिक ....अत्यंत भावपूर्ण रचना ......!!

    ReplyDelete
  5. बहुत मार्मिक रचना ...!

    ReplyDelete
  6. :-( कि आस कभी टूटे न.......

    बहुत कोमल भाव हैं दी...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. मैं आज भी आँखों में दीप बाले बैठी हूँ -
    वह आस..
    आज भी चौखट से लगी बैठी है ...!!!
    -------मन भीग गया सरस बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  8. मन को प्रभावित करती सुंदर अभिव्यक्ति...!

    RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - बुधवार - 09/10/2013 को कहानी: माँ की शक्ति - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः32 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  10. इस तरह के अटल विश्वास के आगे आस निराश कभी हो नहीं सकती. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  11. कई बार ये आस नहीं टूटती .. जीवन खत्म हो जाता है ... ये पराकाष्ठा होती है मिलन की आस की ... भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  12. इंतज़ार कहें या प्रेम की पराकाष्ठा
    और दर्द का अनकहा कहा एहसास

    ReplyDelete
  13. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  14. सुन्दर दर्दिला अहसास..

    ReplyDelete
  15. बहुत खुबसूरत रचना ...

    ReplyDelete
  16. वाह... बहुत ही गहरे भाव... बहुत खूब

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर रचना.
    मेरे ब्लॉग पर भी आप सभी का स्वागत है.
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete
  18. ओह .... बहुत मार्मिक .... यही आस शायद उसे वापस ले आए ।

    ReplyDelete