Thursday, November 8, 2012

विरह







 स्टेशन के उस पीपल के नीचे -
एक छोटीसी गृहस्थी बसा
रहती आई है वह-a
पिछले पच्चीस वर्षों से -
हर सवेरा एक जीने की उम्मीद बनकर आता
और हर रात मौत का सदक़ा बन जाती !
जीने मरने का यह क्रम -
अविरल..अविरत... चलता हुआ-
आनेवाली हर ट्रेन से बंधती आस -
लौट आती ...
सूनी पटरियों से खुद को बटोरती हुई .....
और यह क्रम यूहीं चलता रहता ....
कौन था वह ...
जो कर गया
यह लम्बा विरह उसके नाम !!!

24 comments:

  1. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
  2. कौन था वह ...
    जो कर गया
    यह लम्बा विरह उसके नाम !!!
    hmm...aisee chand aurton ko dekha hai mili bhi hoon magar kabhi himmat nahin hui unke virah ko mahsoos kar likhane ki aaj aapki kavita padhii kuchh chehare yaad aa gaye aur ansoo bhi .

    ReplyDelete
  3. कौन था वह ...
    जो कर गया
    यह लम्बा विरह उसके नाम,,,,बढ़िया प्रस्तुति,,,

    दीपक करने आ गए,धरती पर उजियार
    आलोकित संसार है, भाग रहा अंधियार.,,,,,

    RECENT POST:..........सागर

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत ही शानदार ।

    ReplyDelete
  5. विरह की रात ...और रेल की पटरी...कब खत्म होगी ..और कहाँ???
    दिवाली की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. और यह क्रम यूहीं चलता रहता ....
    कौन था वह ...
    जो कर गया
    यह लम्बा विरह उसके नाम !!!

    यह भी ज़िन्दगी का एक हिस्सा बन जाता है जब कोई दर्द दे जाता है . शायद इंतजार भी कहीं सुकून दे जाता है .

    ReplyDelete
  7. बहुत मार्मिक..दिवाली की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  8. वाह!!! बहुत ही शानदार ।

    happy diwali.


    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    माँ नहीं है वो मेरी, पर माँ से कम नहीं है !!!

    ReplyDelete
  9. जीने मरने का यह क्रम -
    अविरल..अविरत... चलता हुआ-
    आनेवाली हर ट्रेन से बंधती आस -
    लौट आती ...

    यही आशा हमें जीवंत रखती है . धड़कने चलती रहनी चाहिए.

    ReplyDelete
  10. हर कूक पर पांव उठते हैं,विरह कथा बुनते हैं

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर
    आपका ब्लाग बहुत सुंदर लगता है,खासतौर पर बैकग्राउंड

    ReplyDelete
  12. सुंदर कविता के साथ दीपावली की भी शुभकामनायें |ज्योति पर्व मंगलमय हो |

    ReplyDelete
  13. आप और आपके पूरे परिवार को मेरी तरफ से दिवाली मुबारक | पूरा साल खुशिओं की गोद में बसर हो और आपकी कलम और ज्यादा रचनाएँ प्रस्तुत करे.. .. !!!!!

    ReplyDelete


  14. कौन था वह ...
    जो कर गया
    यह लम्बा विरह उसके नाम !!!


    वाकई मर्मस्पर्शी रचना !

    आभार सुंदर लेखन के लिए



    ReplyDelete


  15. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**●राजेन्द्र स्वर्णकार●**♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  16. kuch jakhm dukhte se ...bahut sundr bhav..priya kavita

    ReplyDelete
  17. बहुत लंबा इंतज़ार ... आज भी झुलस रही है विरह में... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  18. कौन था वह ...
    जो कर गया
    यह लम्बा विरह उसके नाम !!!
    वाह ... बहुत खूब।

    ReplyDelete
  19. कौन था वह ...
    जो कर गया
    यह लम्बा विरह उसके नाम !!!

    ....बहुत मर्मस्पर्शी रचना...हरेक शब्द अंतस को छू गया॥

    ReplyDelete
  20. कौन था वह ...
    जो कर गया
    यह लम्बा विरह उसके नाम !!!

    मर्मस्पर्शी ...गहन अभिव्यक्ति ....!!

    ReplyDelete

  21. दिनांक 23/12/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार यशवंत....:)

      Delete
  22. ह्रदय स्पर्श कर गयी आपकी यह रचना.

    ReplyDelete