Friday, November 2, 2012

ताप -




मैंने जलते सूरज को , अपनी अंजुरी में समेटना चाहा
ताकि जग का ताप हर लूं -
ताकि, व्यथित , विक्षिप्त अ:तस के कष्ट, कम कर दूं -
 ताकि धरती की जलन को कुछ और शीतल कर दूं -
ताकि तपते खेतों को झुलसने से बचा लूं ..

लेकिन यह क्या ...!
मैंने तो जीवन का उद्गम ही रोक दिया -
वही ऊष्मा जो जीवनदायी थी -
मैंने उसीका रुख मोड़ दिया ..!!!

खेत भी त्राहि त्राहि कर उठे -
फुनगियों पर रुका अनाज
मुरझाकर झड़ने लगा
विक्षिप्त व्यथित कायाएं
रोग ग्रस्त हो गयीं....

यह मैंने क्या किया !
नहीं समझ पाई कि स्वयं तपकर ही तुम
जग को जीवन देते हो  ---
तपना ही तुम्हारी नियति है

और मेरी ....
धरती बन .....
सांझ को घर लौटने पर
उस ताप पर ....
मरहम बन जाना ......!!!

20 comments:

  1. खूबसूरत अहसासों पर बधाई ...
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर एहसास .... कभी कभी परोपकार करते हुये अनिष्ट भी हो जाता है ....

    ReplyDelete
  3. सुन्दर कविता सरस जी .... सूरज कि तपिश जलन नहीं जीवन देती है.

    ReplyDelete
  4. स्त्री जीवन बिलकुल ऐसा ही तो होता है... बहुत बढ़िया कविता

    ReplyDelete
  5. सूरज का ताप सभी को जीवन देता है,,,
    सभी ब्लॉगर परिवार को करवाचौथ की बहुत बहुत शुभकामनाएं,,,,,

    RECENT POST : समय की पुकार है,

    ReplyDelete
  6. बहुत ही खूबसूरत भाव.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सरस जी....
    सूरज के ताप पर मरहम बनती धरती.....

    बहुत बढ़िया..
    अनु

    ReplyDelete
  8. मैंने जलते सूरज को , अपनी अंजुरी में समेटना चाहा
    ताकि जग का ताप हर लूं -
    ताकि, व्यथित , विक्षिप्त अ:तस के कष्ट, कम कर दूं -
    ताकि धरती की जलन को कुछ और शीतल कर दूं -
    ताकि तपते खेतों को झुलसने से बचा लूं ..

    नारी की गरिमा को समेटे बहुत ही खुबसूरत भावना से भरी रचना .
    नाराज न हों तो अ:तस की जगह अंतस होना चाहिए क्या ?
    कहने की कोशिश की माफ़ी सहित .शायद अर्थ स्पष्ट हो .

    ReplyDelete
  9. वाह !!! बहुत ही बढिया

    ReplyDelete
  10. यह ऊष्‍मा ही तो जीवन देती है ! बहुत सुंदर अभिव्यक्‍ति !

    ReplyDelete
  11. bahut hi khubsurat prastuti saras jee...manav mn ki uljhanon ko...

    ReplyDelete
  12. tapti garmi se chhan kar nikalti behtareen rachna..:)

    ReplyDelete
  13. नहीं समझ पाई कि स्वयं तपकर ही तुम
    जग को जीवन देते हो ---
    तपना ही तुम्हारी नियति है

    एक और सुंदर प्रस्तुति. बधाई.

    ReplyDelete
  14. और मेरी ....
    धरती बन .....
    सांझ को घर लौटने पर
    उस ताप पर ....
    मरहम बन जाना ......!!!

    ...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...बधाई...

    ReplyDelete
  15. लेकिन यह क्या ...!
    मैंने तो जीवन का उद्गम ही रोक दिया -
    वही ऊष्मा जो जीवनदायी थी -
    मैंने उसीका रुख मोड़ दिया ..!!!

    बेहतर भावाभिव्यक्ति ...!

    ReplyDelete
  16. जिसकी जो प्रक्रिया है .... वह भले ही कभी असहनीय हो उठे,पर .... असह्य होना भी ज़रूरी है न , सहने की क्षमता को जानने के लिए

    ReplyDelete
  17. सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete