Monday, October 8, 2012

क्षणिकाएँ -



 बड़प्पन

लोग भी नासमझ होते है -
बड़ा बनने की होड़ में
अक्सर कभी छोटी कभी ओछी बातें कर बैठते हैं ..
काश यह जाना होता कि
बड़ा बनने के लिए
सिर्फ एक लकीर खींचनी होती है -
दूसरे के व्यक्तित्व के आगे -
अपने व्यक्तित्व कि एक छोटी लकीर ...!


ज़रुरत

सुना था कभी -
शरीर के अनावश्यक अंग झड जाते हैं -
और जिन्हें इस्तेमाल करो -
वे हृष्ट पुष्ट हो जाते हैं ....
मैंने हाल ही में-
दीवारों के कान उगते देखे हैं !

29 comments:

  1. दीवारों के कान तो पहले से थे पर दिखते नहीं थे ॥ अब हृष्ट पुष्ट हो दिखने भी लगे :) गहन क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  2. सुना था कभी -
    शरीर के अनावश्यक अंग झड जाते हैं -
    और जिन्हें इस्तेमाल करो -
    वे हृष्ट पुष्ट हो जाते हैं ....
    मैंने हाल ही में-
    दीवारों के कान उगते देखे हैं !
    क्‍या बात है ... बहुत ही बढिया।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया.....सरस जी...
    ज्यों दीवारों के कान उग आये हैं,वैसे कहीं इंसानों के दिल न झड जाएं किसी रोज..
    लाजवाब क्षणिकाएं...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete
  5. :) बढ़िया और गहरे अर्थ लिए हैं क्षणिकाएं :)

    ReplyDelete
  6. वाह वाह दोनों ही ज़बरदस्त

    ReplyDelete
  7. बड़प्पन एक हल्की लकीर में - संस्कार
    दीवारों में उगते कान देखना - जीवन अनुभव

    ReplyDelete
  8. उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना को 'चर्चा मंच' पर स्थान देने के लिए ह्रदय से आभार

      Delete
  9. १ - संस्कार व्योहार बोलचाल से ही बड़प्पन झलकता,,,,,है
    २ - दीवारों के कान होते है,उगते नही देखा,,,,बहुत अच्छी दोनों क्षणिकाएँ,,,,,,,

    RECENT POST: तेरी फितरत के लोग,

    ReplyDelete
  10. लाजवाब क्षणिकाएं...

    ReplyDelete
  11. बात तो गहरी है पर सरल जो आसानी से समझी जाये शानदार बहव और मोहक पोस्ट .स्वागत है मेरे ब्लॉग पर|

    ReplyDelete
  12. संक्षेप में बहुत कह दिया आपने |
    आशा

    ReplyDelete

  13. लोग भी नासमझ होते है -........hain हैं
    बड़ा बनने की होड़ में
    अक्सर कभी छोटी कभी ओछी बातें कर बैठते हैं ..
    काश यह जाना होता कि
    बड़ा बनने के लिए
    सिर्फ एक लकीर खींचनी होती है -
    दूसरे के व्यक्तित्व के आगे -
    अपने व्यक्तित्व कि एक छोटी लकीर ...!............अपने व्यक्तित्व .......की ....एक छोटी लकीर

    .सुना था कभी -
    शरीर के अनावश्यक अंग झड जाते हैं -.....झड़ ...........
    और जिन्हें इस्तेमाल करो -
    वे हृष्ट पुष्ट हो जाते हैं ....
    मैंने हाल ही में-
    दीवारों के कान उगते देखे हैं !

    बढ़िया प्रस्तुति .

    बड़े बड़ाई न करें ,बड़े न बोलें बोल ,

    रहिमन हीरा कब कहे लाख टका मेरा मोल .

    ReplyDelete
  14. कम शब्दों में बड़ी बात वाह बहुत खूब लगा अंदाज़ |

    ReplyDelete
  15. वाह दीवारें तो बहुत काम कर रही हैं :)

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन गहन भाव लिए क्षणिकाएं...
    :-)

    ReplyDelete
  17. सुना था कभी -
    शरीर के अनावश्यक अंग झड जाते हैं -
    और जिन्हें इस्तेमाल करो -
    वे हृष्ट पुष्ट हो जाते हैं ....
    मैंने हाल ही में-
    दीवारों के कान उगते देखे हैं !

    क्या बात है ....
    बहुत khoob ...!!

    ReplyDelete
  18. बढ़िया सन्देश देती रचनाएं ...
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  19. दीवारों के कान वास्तव में सशक्त होते जा रहें हैं.

    बहुत उम्दा क्षणिकाएँ.

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब | नया सा कुछ |

    ReplyDelete
  21. सिर्फ एक लकीर खींचनी होती है -
    दूसरे के व्यक्तित्व के आगे -
    अपने व्यक्तित्व की एक छोटी लकीर ...!

    ....दीवारों के कान उगते देखे हैं !

    बहुत उम्दा क्षणिकाएँ।

    ReplyDelete
  22. दूसरे के व्यक्तित्व के आगे -
    अपने व्यक्तित्व कि एक छोटी लकीर ...!
    bahut sundar ...

    ReplyDelete
  23. दीवारों के कान उगते देखे हैं !... सच है दीवारों के सिर्फ कान ही उग कर बचे रहते हैं. दोनों क्षणिकाएँ सारगर्भित, बधाई.

    ReplyDelete
  24. आपकी सोच को सलाम!

    --
    ए फीलिंग कॉल्ड.....

    ReplyDelete
  25. बहुत लाजबाब प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST LINK ...: विजयादशमी,,,

    ReplyDelete
  26. सुन्दर, विद्वता भरी क्षणिकाएं..
    सादर

    ReplyDelete