Thursday, January 22, 2015

बहस


१)

कभी कभी एक छोटी सी बहस
बन जाती है चीर –
और लिपटे रह जाते हैं उसमें –
सारी समझदारी –
सारा प्यार –
सारा अपनापन !
अहम् खींचता जाता है उस चीर को
और बारी बारी  से
दु:शासन और द्रौपदी बने हम
होने देते हैं तार तार
रिश्तों की मर्यादा को
और प्रेम
खड़ा रहता है
नि:वस्त्र..!!!

२)


कभी कभी
एक निर्दोष सी बहस
होकर विकराल
बन जाती है एक युद्ध !
जहाँ अहम् के धनुष्य से
चलते हैं तर्कों के तीर !
रिक्त होती जाती हैं संवेदनाएं
करते जाते एक दूजे को लहु लुहान
और रिश्तों को ध्वस्त !


12 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (23.01.2015) को "हम सब एक हैं" (चर्चा अंक-1867)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीय राजेंद्र कुमार जी

      Delete
  2. सुन्दर....बहुत सुन्दर कविता !!

    अनु

    ReplyDelete
  3. आपने सही कहा है जी .
    मेरे ब्लोग्स पर आपका स्वागत है .
    धन्यवाद.
    विजय

    ReplyDelete
  4. बहस का अंजाम ऐसा ही होता है,...

    ReplyDelete
  5. बि‍ल्‍कुल सच कहा..होता है ऐसा ही।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति। वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. बहस निष्कर्ष पर नहीं पहुंचे .. नियमानुसार न हो तो दुखदायी ही होती है ...
    सुन्दर प्रस्तुति है ...

    ReplyDelete
  8. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Bank Jobs.

    ReplyDelete
  9. दु:शासन और द्रौपदी बने हम
    होने देते हैं तार तार
    रिश्तों की मर्यादा को
    और प्रेम
    खड़ा रहता है
    नि:वस्त्र..!!!
    और इंतजार करते हैं फ़िर किसी कृष्ण का...................
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  10. नकारात्मक बहस रिश्तों को सच ही तार तार कर देती है . बहस वही उचित जो सापेक्ष्य हो .

    ReplyDelete