Thursday, October 9, 2014

जूनून



घंटों बीत जाते हैं सोचते सोचते
अगर ऐसा न होकर
कुछ ऐसा हुआ होता तो -
उसने यह न कहकर
 कुछ यह कहा होता तो -
तो मैं भी कुछ ऐसा कहती !
शनै: शनै:
मैं बादलों पर उतर आती
नर्म फाये तलवे गुदगुदाते
और ज़मीन कोसों दूर रह जाती
तभी सच के ठन्डे स्पर्श से
संक्षेपित-
मैं हरहराकर
ज़मीन से टकराती
पर वह चोट
रोक न पाती मुझे
अगले ही पल
वही सिलसिला फिर रवां हो जाता.....
जूनून जो ठहरा !

सरस

34 comments:

  1. जूनून होने का,
    उसमें डूबने का
    उसके संग उड़ने का
    इसे शब्द नहीं दे सकते - ये ऐसे होता, ये कहते,यूँ कहते - जुनूनी सिलसिला है

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार रश्मिजी

      Delete
  2. वाह .... कमाल है अनथक सा ये सिलसिला ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मोनिका जी

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना शनिवार 11 अक्टूबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार यशोदा जी

      Delete
  4. जूनून कायम रहे ........

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मुकेश

      Delete
  5. वाह ! बहुत सुन्दर
    ……

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार मृदुलाजी

      Delete
  6. ये जूनून ही तो जिंदा रखता है हमें...,

    सुंदर कविता दीदी

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सीमा

      Delete
  7. बहुत सुंदर भावावियक्ति ॥

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार नीरज जी

      Delete
  8. बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया कविता

      Delete
  9. सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया ओमकार जी

      Delete
  10. Bahut sunder ... Is zunoon ke liye shubhkaamnnaayein aapko !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका ....

      Delete
  11. Replies
    1. शुक्रिया अपर्णा जी

      Delete
  12. ज़ुनून जिंदगी की मुस्‍कान ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सदाजी

      Delete
  13. हाँ ऐसा ही तो होता है ...और यूँ ही चलता रहता है. बेहद सुन्दर पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शिखा

      Delete
  14. मैं हरहराकर
    ज़मीन से टकराती ---- आपकी कविताओं में जीवन को जीने की एक अलग तरह की व्याख्या रहती है ---- वाह बहुत सुंदर
    सादर --

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार ज्योति जी

      Delete
  15. जीवन के लिए कई बार जूनून का रहना जरूरी होता है ...
    बहुत खूब लिखा है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार दिगंबर नास्वाजी

      Delete
  16. बहुत खूब...बहुत ही जुनुनी रचना...

    ReplyDelete
  17. ऐसा नहीं वैसा हुआ होता ... ऐसे नहीं वैसे किया होता .... सच हर पल कुछ ऐसा ही सोचते हैं ... सोचने का भी जूनून ही तो होता है

    ReplyDelete