Tuesday, March 19, 2013

परिभाषाएं - (१ )




चाँद -

सपनों की वह दुनिया
जहाँ कहानियाँ बुनी जाती हैं  -
और कते हुए सूत के छोर से बंधी
हम तक पहुँच जाती हैं ...

वह हमदर्द !
जो हर तड़प से वाकिफ़ है
जो हर उस हिचकी की वजह जानता है
जो विरह के रुदन से उठती है .....

वह क़ासिद !
जिससे सबको उम्मीद है
की हर हाल में , मेरा पैगाम
वह माहि तक पहुंचा ही देगा .....

वह दाता !
जिससे हर सुहागन
कुछ साल उधार माँगती है
कि उसका सुहाग बना रहे .....

वह दानवीर !
जो देता है , देता जाता है
इस दर्जा कि खुद रीता हो जाता है
लेकिन दुआओं के असर से फिर बढ़ जाता है
जो एवज में मिलतीं हैं उसे ....

21 comments:

  1. वो एक...हमदर्द, कासिद, दानवीर... जाने क्या क्या... सबकी चाहत... देव भी और रोटी भी... सुन्दर रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  2. चाँद,वो हमदर्द,वो कसीद,वो दाता ,वो दानवीर....
    सभी को परिभाषाओं में बांधना कठिन....

    बहुत सुन्दर ..
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (20-03-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  4. बधाई हो आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज के ब्लॉग बुलेटिन पर प्रकशित की गई है | सूचनार्थ धन्यवाद |

    ReplyDelete
  5. परिभाषाओं की परिधि पर मुस्काता चाँद..

    ReplyDelete
  6. वह हमदर्द !
    जो हर तड़प से वाकिफ़ है...
    ---------------------
    चाँद का दिलचस्प किस्सा ...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ... चाँद को अलग अलग एंगल से देखा है आपने ...
    गहरा अर्थ किये हैं सभी ...

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया -
    शुभकामनायें आदरेया -

    ReplyDelete
  9. ओ चाँद ....तू तो मेरा अपना है .....हर तरह से ....
    बहुत सुन्दर परिपक्व परिभाषाएं सरस जी .......
    चंद को एक पूर्णता दे रहीं हैं ...!!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही बढियां प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  11. सपनों की वह दुनिया
    जहाँ कहानियाँ बुनी जाती हैं -
    और कते हुए सूत के छोर से बंधी
    हम तक पहुँच जाती हैं ...
    बेहतरीन ....आकर्षक शब्द,सुन्दर ख़याल और सरल बयानगी

    ReplyDelete
  12. जैसे परिभाषाओं का यह सिरा सब को एक दूसरे से जोड़े रखता है ...
    बेहतरीन प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  13. चाँद तो एक है,लेकिन सबका देखने का अपना नजरिया है ,,,

    Recent Post: सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार,

    ReplyDelete
  14. चाँद कभी एक सा नहीं रहता ....और आपने तो इसे कितनी ही परिभाषाओं में बाँध दिया ...वाह ..बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  15. chand ko bilkul alag tareeke se dekha aapne

    ReplyDelete
  16. Chaand ek aur uske alag-alag kai roop kai arth........! bahut khoobsurti se aapne chaand se parichay karvaya hai, vakai!

    ReplyDelete
  17. शानदार बहुत खूब
    वही हमदर्द बनता है कभी कसीद बन जाता है
    वही दाता बन जाता है वही फिर दान दाता है

    unpredictable so nice thought

    ReplyDelete
  18. सुंदर रचना, बेहतरीन अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  19. bhavpoorn rachana ke sath sundar prastuti ke liye badhai .

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर .... हर परिभाषा सोचने पर विवश करती हुई

    ReplyDelete